tiktok-might-be-banned-in-australia

भारत में बैन होने के बाद Tiktok की राह अब आसान नहीं लग रही है। जैसे कि आप जानते ही होंगे हाल ही में भारत में Tiktok को सुरक्षा कारणों से बैन कर दिया गया था। इसके बाद से ही खबरें आ रही है कि बेहद जल्द ऑस्ट्रेलिया भी Tiktok को बैन करने पर विचार कर सकता है। हाल ही में आई रिपोर्ट के मुताबिक ऑस्ट्रेलिया डेटा प्राइवेसी को लेकर टिकटॉक पर इन्वेस्टिगेशन कर रहा है। ऐसे में संभावना है कि भारत की तरह ऑस्ट्रेलिया में भी टिकटॉक बैन किया जा सकता है।

हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के प्राइम मिनिस्टर स्कॉट मॉरीसन ने एक इंटरव्यू में कहा कि “हमारी सरकार काफी नजदीक से जांच कर रही है कि टिकटॉक ऑस्ट्रेलिया में किस तरह से ऑपरेट करता है ? ऐसे में यदि कोई एक्शन लेने की आवश्यकता पड़ी तो हम बिल्कुल पीछे नहीं हटेंगे। “

जिस प्रकार टिकटॉक ने भारत में बैन हो जाने के बाद अपनी सफाई दी थी उसी प्रकार ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री को जवाब देते हुए टिकटोक ऑस्ट्रेलिया के जीएम ली हंटर ने कहा कि “हमारा किसी भी तरह से चीनी सरकार से कोई संबंध नहीं है। हम एक स्वतंत्र कंपनी है जिसका किसी भी सरकार एवं आईडियोलॉजी से कोई लेना देना नहीं है।” सफाई देते हुए आगे टिकटॉक का कहना था कि ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों का डेटा चीन नहीं बल्कि सिंगापुर और यूएस में स्टोर किया जाता है।

ये भी पढ़िए : Tiktok को बेच सकती है चीनी कम्पनी, भारत के बैन का इतना बड़ा असर

ऑस्ट्रेलिया में टिकटॉक के बैन होने की संभावना इसलिए भी बढ़ जाती है क्योंकि ऑस्ट्रेलियाई सरकार के साथ-साथ विपक्ष की पार्टी भी टिकटॉक को बैन करने की मांग कर रही है। ऑस्ट्रेलिया की विपक्षी पार्टी के नेता ने अभी हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में टिकटॉक को बैन करने की नसीहत दी जो इस बात का इशारा है कि ऑस्ट्रेलियाई सरकार के साथ-साथ विपक्ष भी सुरक्षा के मद्देनजर रखते हुए टिकटोक को बैन करने पर विचार कर सकते हैं।

उन सभी खबरों से यह स्पष्ट हो जाता है कि आने वाले समय में टिकटॉक का भविष्य स्थिर नजर नहीं आ रहा है। अचानक से भारत में बैन का असर यूएस के बाद अब ऑस्ट्रेलिया में भी दिखने लगा है। ना केवल ऑस्ट्रेलिया बल्कि कुछ रिपोर्ट की माने तो पाकिस्तान में भी टिकटॉक को बैन किए जाने की मांग उठने लगी है।

लेटेस्ट पोस्ट

हाल ही में खबरें आई थी कि टिकटॉक के अस्थिर भविष्य को देखते हुए टिकटॉक की पैरंट कंपनी बाइटडांस टिक टॉक को बेचने पर भी विचार कर सकती है। रिपोर्ट में कहा गया था कि टिकटॉक एक इंडिपेंडेंट कंट्री के तौर पर भी काम शुरू कर सकती है। ऐसे में कंपनी चीनी मुक्त होकर फिर से वापसी करने की तैयारी कर सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here