tiktok-is-on-the-verge-of-being-banned-in-india

Tiktok – शॉर्ट वीडियो मेकिंग एप भारत में बैन होने की कगार पर है। पिछला कुछ समय टिकटॉक के लिए कॉन्ट्रोवर्सी से भरा रहा है। टिकटॉक पर दंगे, क्राइम एवं रेप को बढ़ावा देने के आरोप लगते आए हैं। एक फिर से टिकटॉक के विरुद्ध कुछ ऐसा देखने को मिला है जिससे यह सवाल उठता है कि क्या भारत में टिकटोक बैन की जाएगी ?

सेंसर टॉवर की एक रिपोर्ट के मुताबिक इस महीने Tiktok के डाउनलोड में लगभग 51% तक की कटौती देखने को मिली है। यह टिकटॉक के आईओएस और एंड्रॉयड दोनों यूजर को मिला कर है। बताते चले भारत टिकटॉक के लिए बेहद महत्वपूर्ण बाजार है। भारत में जिन भी यूजर्स के पास स्मार्टफोन है उनमें से अधिकतर यूजर्स टिकटॉक का इस्तेमाल करते हैं।

लॉकडाउन के शुरुआत में टिकटॉक बेहद ज्यादा डाउनलोड की जाने वाली ऐप में से एक थी। पिछले कुछ समय से टिकटॉक सुर्खियों में रही है। काफी भारतीय टिकटॉक को बैन करने की भी मांग कर रहे हैं।

जैसे कि आप जानते ही होंगे जब से Youtube Vs Tiktok का मामला चला है लोगो ने टिकटोक से दूरी बनानी शुरू कर दी है। इतना ही नहीं लोगो ने प्ले स्टोर पर भी इसकी रेटिंग को 1.2 तक गिरा दिया है। हालांकि, टिकटॉक इंडिया भी भारतीय मार्केट में बने रहने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है। इसलिए पिछले दिनों में टिकटॉक ने काफी बड़े टिकटोर के अकाउंट भी सस्पेंड कर दिए थे जिनमें आमिर सिद्दीकी और फैज़ल सिद्दीकी जैसे यूजर्स शामिल है।

इतना ही नहीं टिकटॉक ने ट्वीट करते हुए अपनी ओर से सफाई भी दी थी।“टिकटोक अपनी क्रिएटिविटी और अभिव्यक्ति साझा करने का प्लेटफार्म है। इस प्लेटफार्म के जरिए हम लोगों को एक साथ लाना चाहते हैं। इस प्लेटफार्म के जरिए किसी की भी भावना को ठेस पहुंचाना नहीं है। हम सभी यूजर्स से आग्रह करेंगे कि वह टिकटोक की गाइडलाइंस को सही से पढ़ें” – टिकटोक इंडिया ने ट्वीट करते हुए यह जानकारी शेयर की। इसके साथ ही टिकटोक ने DOs और DON’Ts के फोटो भी शेयर की थी।

ये भी पढ़िए : Tiktok भारत में हो सकता है बैन, रेटिंग 4.5 से गिरकर हुई 1.2 स्टार

पिछले दिनों टिकटोक के प्रति भारतीयों की नाराजगी का अंदाजा आप टिकटॉक की गिरती हुई रेटिंग से लगा सकते हैं। 4.6 की रेटिंग वाली टिकटॉक ऐप गिरते-गिरते 1.2 रेटिंग पर आ गई थी। हालांकि, उसके बाद कुछ खबरें आई थी कि गूगल प्ले स्टोर से कई मिलियन रिव्यू को डिलीट कर दिया गया है ताकि टिकटॉक की रेटिंग को बेहतर किया जा सके। इसका रिजल्ट भी देखने को मिला ऐसा करने से टिकटॉक की रेटिंग 1.2 से 1.6 हो गई थी। आज के दिन ये रेटिंग फिर से बढ़कर 2.9 हो गई है।

बहरहाल, पिछले कुछ दिनों से टिकटॉक के विरोध में उठती आवाज में गूगल प्ले स्टोर पर गिरती रेटिंग और भारतीयों का चाइना के प्रति बहिष्कार करना निश्चित तौर पर भारत में टिकटॉक के अस्तित्व पर सवाल उठाता है ! बची कुची कसर अब पूरी हो गई जब डेटा सामने आया कि टिकटॉक के डाउनलोड्स में 51% की गिरावट देखने को मिली।

सेंसर टावर की एक रिपोर्ट में टिकटॉक के इस साल का एनालिसिस किया गया है। दरअसल, जनवरी में टिकटॉक के कुल डाउनलोड 30.8 मिलियन थे जो फरवरी में बढ़कर 33.1 मिलियन हो गए थे। मार्च में 35.7 थे और इसके बाद अप्रैल में ये आंकड़ा गिरकर 23.5 मिलियन हो गया। इस मई महीने में सबसे बड़ी गिरावट के बाद यह आंकड़ा 17 मिलियन तक पहुंच गया।

बताते चलें टिकटॉक के कुल यूजर बेस में लगभग 41% यूज़र इंडिया के हैं। ऐसे में यदि टिकटॉक भारत में बैन होता है तो निश्चित तौर पर टिकटॉक के लिए चिंताजनक बात है। अब ये देखना काफी दिलचस्प रहेगा कि टिकटॉक भारत में अपना अस्तित्व बनाए रखने के लिए क्या पॉलिसीज लेकर आता है। हालांकि, पिछले कुछ समय से टिकटॉक के विरोध को देखते हुए लगता है कि टिकटॉक भारत में बैन होने की कगार पर पहुंच चुका है !

हम आपसे जानना चाहेंगे आप इस विषय में क्या कहना चाहते हैं? हमें अपने विचार नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताइए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here