made-in-china-label-to-be-mandatory-amid-boycott-china-wave

जैसे कि आप जानते ही हैं इस समय चीन से चलते विवाद के कारण भारत में चीनी प्रोडक्ट के बहिष्कार पर जोर दिया जा रहा है। सोशल मीडिया पर Boycott China कैंपेन जोरों शोरों पर है। ऐसे में सरकार ने भी चीन के खिलाफ काफी सख्ती बढ़ा दी है। हाल ही में चीनी कंपनियों के साथ काफी सारे कॉन्ट्रैक्ट भी कैंसल कर दिए है। ऐसे में सरकार एक और नया कदम उठाने वाली है जिससे Made in China सामानों पर सख्ती की जा सकेगी।

प्रोडक्ट के नीचे करनी होगी लेबलिंग

आपकी जानकारी के लिए बता दे हाल ही में सरकार एक ऐसा कदम उठाने वाली है जिससे उपभोक्ता को स्पष्ट रूप से पता चल जाएगा कि वे जो सामान खरीद रहे हैं वो किस देश में बना है ! लोकप्रिय ई-कॉमर्स वेबसाइट अमेजॉन और फ्लिपकार्ट पर प्रोडक्ट लिस्ट करने के बाद यह अनिवार्य कर दिया गया है कि प्रोडक्ट लिस्टिंग के नीचे उस देश का नाम होना चाहिए जिस देश में वो प्रोडक्ट बना है। ऐसे में उपभोक्ता बेहद आसानी से जान सकेंगे कि वह किस देश में बना प्रोडक्ट खरीद रहे हैं।

चीनी सामानों की बिक्री पर पड़ेगा असर

इकोनॉमिक्स टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक डिपार्टमेंट फॉर प्रमोशन ऑफ इंडस्ट्री एंड इंटरनल ट्रेड ने हाल ही में एक मीटिंग में यह फैसला लिया है कि सभी कंपनिओं को अपने प्रोडक्ट पर साफ तौर पर यह बताना होगा कि वह प्रोडक्ट किस देश में बना है। बताते चलें रिलायंस ग्रुप ने अपने रिलायंस रिटेल, टाटा क्लिक और जियो जैसे प्लेटफार्म पर इस नए नियम को अपनाने के लिए हामी भर दी है।

ये भी पढ़िए : चीनी स्मार्टफोन छोड़ो, आ रहे है भारतीय ब्रांड के ये जबरदस्त स्मार्टफोन !

भारतीयों प्रोडक्ट को मिलेगा बढ़ावा

बताते चले अभी के लिए यह स्पष्ट नहीं है कि यह नया नियम कब तक लागू होगा फिर भी यदि यह नियम आता है तो निश्चित तौर पर उपभोक्ता चीन के सामान से दूर रह सकेंगे। खासतौर पर इस समय चीन भारतीय सीमा बॉर्डर पर अपनी मनमानी कर रहा है। इस नए नियम से ना केवल चीन के सामानों का बॉयकॉट किया जा सकेगा बल्कि भारतीय सामानों के बढ़ावे पर भी जोर दिया जा सकेगा। मेक इन इंडिया प्रोडक्ट कैंपेन पर जोर दिया जा सकेगा। ( Boycott China )

Latest Posts

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here