kotak-mahindra-bank-and-axis-bank-reduce-their-credit-card-limit-amid-lockdown

पिछले कुछ हफ्तों से भारत में लगातार लॉकडाउन चल रहा है। ऐसे में लोग अपने घरों में रहने को मजबूर है। कुछ जरूरी वस्तुओं की खरीदारी के अलावा कोई अन्य छूट नहीं दी गई है। ऐसे में कुछ इंडस्ट्री को छोड़कर लगभग सभी इंडस्ट्री के काम धंधे बंद है। इसी बीच प्राइवेट बैंकों की ओर से क्रेडिट कार्ड की लिमिट घटाने की खबरें सामने आ रही है। यह खबर कई लोगों को परेशान कर सकती हैं। कुछ प्राइवेट बैंक जैसे Axis Bank और Kotak Mahindra Bank ने अपने क्रेडिट कार्ड की लिमिट को 30% से 90% तक कम कर दिया है।

बैंक ऐसा क्यों कर रहे है ?

जैसे कि आप जानते ही है कुछ जरूरी इंडस्ट्री को छोड़कर लगभग सभी इंडस्ट्री के काम धंधे बंद है। ऐसे में प्राइवेट बैंक को लगता है कि यूजर्स क्रेडिट कार्ड का भुगतान नहीं कर सकेंगे। लॉकडाउन के चलते लोगों के लिए अपनी दैनिक जीवन की वस्तुओं पर खर्चा करना मुश्किल होता जा रहा है। ऐसे में लोगों के लिए क्रेडिट कार्ड का बिल भरना आसान नहीं होगा। मुख्य कारण यही है कि अपने ऊपर कर्जा बढ़ने से छुटकारा पाने के लिए देश के बड़े बैंक कोटक महिंद्रा और एक्सिस बैंक ने ये कदम उठाया है।

ये भी पढ़िए | Oneplus के इस स्मार्टफोन पर हुई ₹6,000 की कटौती

इससे कई उपभोक्ता होंगे प्रभावित

Economics Times की एक रिपोर्ट के मुताबिक इस कदम से एक्सिस बैंक के लगभग दो लाख उपभोक्ता प्रभावित हो सकते हैं। 15 अप्रैल से इन दो लाख उपभोक्ताओं के क्रेडिट कार्ड की लिमिट कम कर दी गई है। हाल ही में एक्सिस बैंक के एक यूजर ने इस बारे में खुलकर बात की है। यूजर के मुताबिक उसने अपने क्रेडिट कार्ड का बिल का भुगतान हमेशा समय पर ही किया था। बावजूद इसके यूजर के क्रेडिट कार्ड की सीमा 5,00,000 रुपए से घटाकर 50,000 रुपए कर दी गई। यूजर ने इस विषय में कस्टमर केयर से भी बात की। कस्टमर केयर ने यूजर को बताया कि यह कोई तकनीकी गड़बड़ी हो सकती है और कुछ दिनों में सही होने का आश्वासन भी दिया। ऐसे ही एक अन्य यूज़र की क्रेडिट कार्ड की लिमिट सात लाख से घटाकर डेढ़ लाख कर दी गई।

kotak-mahindra-bank-and-axis-bank-reduce-their-credit-card-limit-amid-lockdown

कोटक महिंद्रा बैंक ने भी उठाया कदम

हाल ही में कोटक महिंद्रा बैंक के एक कस्टमर ने भी इसी तरह की कहानी बताई। कस्टमर ने बताया कि उसकी क्रेडिट कार्ड की सीमा ₹75,000 से घटाकर ₹40,000 कर दी गई। इस विषय पर प्रश्न पूछने पर बैंक ने इसे एक रूटीन प्रक्रिया बताया। जैसे कि हमने पहले भी बताया बैंकों के द्वारा इस कदम को उठाने के पीछे मुख्य कारण लॉकडाउन है। कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन में लोग अपने काम धंधों से दूर है। ऐसे में बैंकों को डर है कि यूजर अपने क्रेडिट कार्ड का भुगतान नहीं कर सकेंगे। ऐसे में बैंक इस कदम को उठाकर अपने क्रेडिट कार्ड का जोखिम कम करने में लगे है।

ये भी पढ़िए | Pixel 4a : गूगल ने कर ली तैयारी, iPhone SE के लिए कड़ी चुनौती

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के द्वारा बताए गए आंकड़ों के अनुसार पिछले साल के मुकाबले इस साल फरवरी में बैंकों के ऊपर क्रेडिट कार्ड की बकाया राशि में लगभग 26% तक की वृद्धि हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here