iphone-se-vs-iphone-8

iPhone SE vs iPhone 8 : हाल ही में एप्पल ने अपना सबसे सस्ता स्मार्टफोन iPhone SE (2020) लॉन्च किया है। इस स्मार्टफोन को अमेरिका में $399 की शुरुआती कीमत पर लांच किया गया है। भारत में ये स्मार्टफोन ₹42500 की शुरुआती कीमत पर खरीदा जा सकता है। iPhone SE की लॉन्च के बाद इसकी तुलना iPhone 8 से होने लगी। एक नजर में यह स्मार्टफोन पूरी तरह से iPhone 8 जैसा ही लगता है। फोन के डिजाइन, डिस्प्ले से लेकर कैमरा परफॉर्मेंस iPhone 8 जैसा ही देखने को मिलता है।

ऐसे में सवाल उठता है कि क्या नया आईफोन SE खरीदना सही रहेगा या फिर कुछ सालों पहले लांच किया गया आईफोन 8 थोड़ी कम कीमत पर इससे बेहतर विकल्प रहेगा ?

इस आर्टिकल में हम सीधे तौर पर आईफोन SE की तुलना आईफोन 8 से करने वाले है। इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि कौन सा स्मार्टफोन आपके लिए बेहतर विकल्प रहेगा ? नया एवं लेटेस्ट आईफोन SE, क्या आईफोन 8 की तरह दिखने के बावजूद बेहतर विकल्प है ?

iPhone SE vs iPhone 8 Design

जैसे कि हमने आपको पहले बताया कि ये स्मार्टफोन पूरी तरह से आईफोन 8 जैसा ही लगता है। स्मार्टफोन की बॉडी का फॉर्म फैक्टर,कैमरा प्लेसमेंट, फ्रंट बेजल एवं होम बटन बिल्कुल आईफोन 8 की तरह ही है। ऐसे में आईफोन SE को थोड़ा अलग बनाने के लिए एप्पल ने कुछ रिफाइनमेंट की है। उदाहरण के तौर पर आईफोन 8 की तुलना में एप्पल लोगों को सेंटर में कर दिया गया है। इसके साथ ही एप्पल ने अपने वर्ड मार्क को भी हटा दिया। आईफोन SE क्लीन एवं अनइंटरप्टेड लुक के साथ आता है।

iphone-se-vs-iphone-8

फ्रंट साइड पर इस स्मार्टफोन के बड़े-बड़े बेजल बिल्कुल iPhone 8 की तरह ही है। आईफोन SE के साथ एप्पल ने फेसप्लेट को भी काला ही कर दिया है। उदाहरण के तौर पर आईफोन 8 स्मार्टफोन के सिल्वर और गोल्ड रंग के आईफोन के फ्रंट साइट पर फेसप्लेट सफेद रंग के थे। आईफोन SE के साथ सभी मॉडल पर फेसप्लेट या बैजल्स काले ही देखने को मिलते हैं।

Display

इन दोनों स्मार्टफोन की डिस्प्ले बिल्कुल समान है। दोनों ही स्मार्टफोन में 4.7 इंच की एलसीडी डिस्पले देखने को मिलती है। इन दोनों स्मार्टफोन की डिस्प्ले में बिल्कुल भी अंतर देखने को नहीं मिलता है। याद रहे आईफोन 8 के साथ बड़ी डिस्प्ले का विकल्प मौजूद है। उदाहरण के तौर पर आईफोन 8 प्लस में उपभोक्ताओं को 5.5 इंच की डिस्प्ले का विकल्प मिलता है। अभी के लिए आईफोन SE केवल एक ही डिस्पले साइज में आता है।

Processor

ये एक मुख्य कारण है की आईफोन SE लॉन्च के बाद से सुर्खियों में बना हुआ है। आईफोन SE में एप्पल का लेटेस्ट प्रोसेसर A13 Bionic चिपसेट का इस्तेमाल किया गया है। बेहद महंगे आईफोन 11 प्रो मैक्स स्मार्टफोन में भी यही प्रोसेसर देखने को मिलता है। अगर बात आईफोन 8 की करें तो इस फोन में A11 Bionic चिपसेट का इस्तेमाल किया गया है। (iPhone SE vs iPhone 8)

Latest posts

परफॉर्मेंस के मामले में आईफोन SE बेहतर है। जाहिर है फोन में लेटेस्ट प्रोसेसर दिया गया है। इसके अलावा आईफोन SE में 3GB रैम देखने को मिलती है जबकि आईफोन 8 स्मार्टफोन 2GB रैम के साथ आता है। नया हार्डवेयर और ज्यादा रैम होने के कारण SE निश्चित तौर पर आज का लेटेस्ट फ्लैगशिप स्मार्टफोन कहा जा सकता है।

Camera

आईफोन SE स्मार्टफोन में 12 मेगापिक्सल का सिंगल रीयर कैमरा देखने को मिलता है। सेल्फी के दीवानों के लिए फ्रंट में 7 मेगापिक्सल का कैमरा सेंसर मौजूद है। सीधे तौर पर कहां जाए तो आईफोन SE का कैमरा परफॉर्मेंस थोड़ा ही सही लेकिन आईफोन 8 से बेहतर है। आईफोन 8 स्मार्टफोन की इमेज प्रोसेसिंग पुराना ए11 चिपसेट करता है तो वहीं आईफोन SE में लेटेस्ट ए13 का इस्तेमाल किया है। A13 चिपसेट केवल फोन के परफॉर्मेंस को ही बेहतरीन नहीं बनाता है बल्कि कैमरा परफॉर्मेंस पर भी अपना प्रभाव छोड़ता है।

iphone-se-vs-iphone-8

आईफोन SE में लेटेस्ट प्रोसेसर होने के कारण इसकी इमेज प्रोसेसिंग ज्यादा बेहतर है। यह अंतर दोनों स्मार्टफोन की फोटो को कंपैर करने पर देखा जा सकता है। आईफोन एसी में बेहतर इमेज प्रोसेसिंग बेहतर होने के कारण बेहतर पोर्ट्रेट मॉड, HDR एवं डिटेलिंग देखने को मिलती है। इसके अलावा फ्रंट कैमरे से भी पोर्ट्रेट मोड संभव है।

Battery

दोनों स्मार्टफोन का बैटरी बैकअप लगभग समान कहां जा सकता है। दोनों ही स्मार्टफोन बड़ी बैटरी के लिए नहीं जाने जाते हैं। ऐसे में SE में इस्तेमाल किए जाने वाला प्रोसेसर 7 नैनोमीटर पर बना है जबकि आईफोन 8 में मौजूद प्रोसेसर 10 नैनोमीटर पर बना है। प्रोसेसर जितने कम नैनोमीटर पर बना होता है उतना ही ज्यादा बैटरी एफिशिएंट होता है। साथ ही हीटिंग की समस्या भी कम ही देखने को मिलती है। ऐसे में बैटरी दोनों ही स्मार्टफोन की लगभग समान कहीं जा सकती है। आईफोन SE में मौजूद प्रोसेसर ज्यादा बैटरी एफिशिएंट है।

Other features

इसमें कोई दो राय नहीं है कि आईफोन SE लेटेस्ट मॉडल है इसलिए इसमें ज्यादा बेहतर कनेक्टिविटी फीचर्स देखने को मिलते है। उदाहरण के तौर पर आईफोन SE में आपको डुअल सिम सपोर्ट देखने को मिलता है। यूजर्स फिजिकल सिम के साथ साथ एक e-sim का इस्तेमाल कर सकते हैं जबकि आईफोन 8 स्मार्टफोन में केवल एक ही सिम इस्तेमाल किया जा सकता है।

इसके अलावा SE वाईफाई 6 को सपोर्ट करता है। दोनों ही स्मार्टफोन में हेडफोन जैक मौजूद नहीं है। दोनों ही स्मार्टफोन वायरलेस चार्जिंग को भी सपोर्ट करते हैं। दोनों ही स्मार्टफोन एक जैसी टच आईडी के साथ आते हैं।

आईफोन 8 स्मार्टफोन साल 2017 में लांच किया गया था। ऐसे में यह स्मार्टफोन पहले ही लगभग 3 साल पुराना हो चुका है। स्मार्टफोन को मुश्किल से 1 या 2 साल तक सॉफ्टवेयर अपडेट मिलेंगे। एप्पल हमेशा से ही अपने पुराने मॉडल को भी सॉफ्टवेयर अपडेट देने के लिए जाना जाता है। ऐसे में यदि यूजर आईफोन SE खरीदते है तो इसे लगभग 2024-25 तक अपडेट मिलते रहेंगे।

Price

बात अगर कीमत की की जाए तो आईफोन SE की शुरुआती कीमत भारत में ₹42,500 से शुरू होती है। इस कीमत पर उपभोक्ताओं को 3GB रैम के साथ 64GB स्टोरेज वेरिएंट देखने को मिलता है।

SE की लॉन्च के बाद एप्पल ने आईफोन 8 को डिस्कंटीन्यू कर दिया था। ऐसे में एप्पल की ओर से आईफोन 8 नहीं बेचा जाएगा। फिर भी कुछ अन्य ऑनलाइन या ऑफलाइन प्लेटफार्म से आईफोन 8 अभी खरीदा जा सकता है।

अमेरिका में आईफोन SE की कीमत $399 रखी गई है। कुछ ऑनलाइन स्टोर से अमेरिकी यूजर आईफोन 8 को $250 तक की कीमत पर खरीद पा रहे है। ऐसे में उपभोक्ताओं के लिए आईफोन 8 खरीदना समझ में आता है। यदि भारत की बात की जाए तो फ्लिपकार्ट पर आईफोन 8 के बेस वेरिएंट की कीमत ₹38999 है। लगभग ₹4000 के अंतर के कारण आईफोन 8 खरीदने का कोई तुक नहीं बनता है। ऐसे में हमारा मानना है कि भारत में आईफोन SE ही एक बेहतर विकल्प है। (iPhone SE vs iPhone 8)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here