Facebook is accused of spying users through selfie camera

बेहद लोकप्रिय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म Facebook एक बार फिर से सवालों के घेरे में आ गया है। दरअसल, इस बार फेसबुक पर फिर से सुरक्षा एवं यूजर्स की प्राइवेसी से जुड़े कारणों को लेकर घेरा गया है।

हाल ही में आई ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि फेसबुक यूजर्स की प्राइवेसी को तोड़ते हुए उनके द्वारा सेल्फी कैमरे के इस्तेमाल ना करने के बाद भी कैमरे से उन पर जासूसी कर रहा है।

सीधे शब्दों में कहा जाए तो Facebook आईफोन यूजर्स के सेल्फी कैमरे का इस्तेमाल उस दौरान भी कर रहा है जब यूजर फेसबुक का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं।

इसी के चलते अमेरिका के एक यूजर ने फेसबुक पर केस दर्ज कराया है। यूजर का कहना है कि फेसबुक उसके द्वारा फेसबुक का इस्तेमाल ना करने के दौरान भी सेल्फी कैमरे की मदद से जासूसी कर रहा है ताकि यूजर के डेटा को स्टील कर सके।

ये भी पढ़िए : iPhone SE पर सबसे बड़ी कटौती, 6500 रुपए सस्ता मिल रहा है

हालांकि, फेसबुक ने अपनी सफाई में भी दलील पेश की है। फेसबुक का कहना है कि यूजर की परमिशन के बगैर सेल्फी कैमरे का इस्तेमाल होना दरअसल एक बग है। फेसबुक ने आगे कहा कि उन्होंने इस बग को सही कर दिया है और अब आगे से इस तरह का मसला यूजर्स को नहीं देखने को मिलेगा।

बताते चले यूजर्स के डेटा के आरोप Facebook के साथ-साथ कुछ अन्य बड़ी कंपनियों पर भी लगते आए हैं। इनमें फेसबुक, इंस्टाग्राम और गूगल जैसी बड़ी कंपनियां भी शामिल है।

एक बड़ी कंपनी के द्वारा इस तरह के एक्टिविटी के पीछे केवल एक ही मकसद होता है कि यूजर्स के डेटा को प्राप्त किया जा सके। यूजर्स के डेटा को प्राप्त करके यह कंपनियां एडवरटाइजर्स को बेचने का प्रयास करती है ताकि रेवेन्यू जनरेट किया जा सके।

ऐसे में हम आपको यही सुझाव देना चाहेंगे किसी भी ऐप को इस्तेमाल करने से पहले उसे दी जाने वाली परमिशन की जांच कर ले। कई एप आपसे उन परमिशन को भी मांग लेती है जो उनके लिए आवश्यक नहीं होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here